स्कूल टाइम में व्हाट्सप्प स्टेटस लगाने वाले शिक्षकों को विभाग ने थमाई नोटिस तो भड़का शिक्षक संघ ने कहा स्कूल टाइम के बंद हो मोबाइल का उपयोग | Stop mobile use in school time



स्कूल टाइमिंग में व्हाट्सएप पर स्टेटस लगाने वाले परिषदीय विद्यालयों के शिक्षकों को विभागीय अधिकारी नोटिस थमा रहे हैं, अफसर स्टेटस डालने को विभाग की छवि खराब करना बताते हुए स्पष्टीकरण मांग रहे हैं, उधर शिक्षक इस कार्यवाही के विरोध में उतर आए हैं । 

परिषदीय शिक्षक इन दिनों जैसे ही व्हाट्सएप पर स्टेटस लगाते हैं या उसमें बदलाव करते हैं तो तुरंत संबंधित खंड शिक्षा अधिकारी इसकी जांच करता है, विद्यालय अवधि में कितने शिक्षकों ने ऐसा किया, उसकी सूची बनाकर नोटिस भेजा जाता है मोहनलालगंज में शिक्षकों को करीब रोजाना ही ऐसे नोटिस मिल रहे हैं । 

महिला दिवस पर मामला तब बढ़ गया, जब खंड शिक्षा अधिकारी मनीष सिंह ने परिषदीय विद्यालयों के एक साथ 12 शिक्षकों को नोटिस भेजकर स्टेटस बदलने पर स्पष्टीकरण मांग लिया, इनमें से आठ शिक्षिकाएं हैं, अधिकतर शिक्षिकाओं ने महिला दिवस से संबंधित स्टेटस लगाया था ।

नोटिस में मनीष सिंह ने कहा, स्कूल अवधि में स्टेटस लगाना शिक्षकों की अनुशासनहीनता दिखाता है, इससे लग रहा है कि उनकी शिक्षण कार्य में रुचि नहीं है, वे विभाग की छवि को धूमिल कर रहे हैं, पूछा कि क्यों न शिक्षक आचरण नियमावली के तहत विभागीय कार्यवाही की जाए, शिक्षकों को खंड शिक्षा अधिकारी के समक्ष उपस्थित होकर स्पष्टीकरण देने के लिए नोटिस भेजा जा रहा है।

तो विद्यालय अवधि में बंद हो मोबाइल का इस्तेमाल

आक्रोशित शिक्षक संगठन के माध्यम से आवाज उठा रहे हैं, आरोप लगाया कि अफसरों ने धन उगाही का नया तरीका निकाला है, नोटिस बिना पत्रांक संख्या के भेजे जा रहे हैं, उच्च अधिकारियों को भी इसकी भनक है, पर सभी चुप्पी साधे हैं । 

प्राथमिक शिक्षक प्रशिक्षित स्नातक एसोसिएशन की जिलाध्यक्ष लल्ली सिंह ने बताया कि हम लोगों के फोन में आठ से 10 सरकारी एप डाउनलोड होते हैं, एमडीएम, डीबीटी, एसीआर, छात्रों की फीडिंग समेत सारी सूचनाएं फोन से देनी होती है । 

विभाग पिक्चर, वीडियो समेत कई पाठ्य सामग्री स्कूल के दौरान भेजी जाती हैं, विभाग रोजाना सूचनाएं व जवाब मांगता है, इन पर ध्यान नहीं दिया तो अधिकारी गुस्सा हो जाते हैं, इस बीच कुछ सेकेंड में कोई स्टेटस अपडेट करता है तो इसे अनुशासनहीनता मान लिया जाता है । 

कहा कि स्कूल अवधि में मोबाइल का इस्तेमाल पूरी तरह से बंद कर दिया जाए और हमसे सूचनाएं न मांगी जाए, वहीं, बेसिक शिक्षा अधिकारी विजय प्रताप सिंह ने बताया कि इस तरह की कार्यवाही का कोई आदेश नहीं है, मामले का संज्ञान नहीं है, इसके बारे में पता करूंगा ।
और नया पुराने