योगी सरकार द्वारा भत्तों पर डाका डालने से खफा कर्मचारी, 27 से आंदोलन - da cut by up govt, angry employee
लखनऊ। भत्तों को खत्म करने से नाराज कर्मचारी-शिक्षक समन्वय समिति ने 18 मई से सांकेतिक आंदोलन का एलान किया है। समिति ने तय किया है कि 18 से 25 मई तक कर्मचारी व शिक्षक काली पट्टी बांधकर काम करेंगे। सरकार ने फैसले पर पुनर्विचार न किया तो आंदोलन को तेज किया जाएगा। समिति ने रेड जोन में माध्यमिक शिक्षक संघ के मूल्यांकन कार्य बहिष्कार के समर्थन की भी घोषणा की है।


कर्मचारी-शिक्षक समन्वय समिति के पदाधिकारियों ने शनिवार को ऑनलाइन बैठक में महंगाई भत्ता, महंगाई राहत फ्रीज करने, 18 माह सहित 8 भत्ते समाप्त करने एवं श्रमिक हित संरक्षण में कई दशकों से बने श्रम कानूनों को झटके में निलंबित करने पर नाराजगी जताई।


प्रवक्ता बीएल कुशवाहा ने बताया कि समिति के समन्वयक अमरनाथ यादव ने मुख्यमंत्री को पत्र भेजकर कर्मचारी व शिक्षक विरोधी फैसलों को वापस लेने का आग्रह किया है। समिति ने सरकार को सलाह दी है कि सीबीएसई की तरह माध्यमिक शिक्षा परिषद की उत्तर पुस्तिकाओं का मूल्यांकन भी शिक्षकों के घर उत्तर पुस्तिकाएं भेजकर करा लिया जाए। खासतौर से रेड जोन के मूल्यांकन।


लखनऊ। प्रदेश सरकार की ओर से कर्मचारियों का डीए फ्रीज कर 6 भत्तों को खत्म करने से नाराज राज्य कर्मचारी महासंघ ने 27 मई से विरोध प्रदर्शन का एलान किया है। वे काली पट्टी बांधकर भोजन-अवकाश में विरोध-प्रदर्शन करेंगे।


राज्य कर्मचारी महासंघ के अध्यक्ष अजय सिंह व महामंत्री राजेश ने यह जानकारी दी। उन्होंने बताया कि प्रदेश स्तरीय बैठक के बाद यह निर्णय किया गया। जल्द ही सभी कर्मचारी संगठनों की मीटिंग कर उन्हें प्रदेशव्यापी आंदोलन से जोड़ा जाएगा।



यूपी मिनिस्ट्रियल कलेक्ट्रेट कर्मचारी संघ की कलेक्ट्रेट इकाई के मंत्री एनके श्रीवास्तव ने भी आंदोलन में हिस्सेदारी की बात कही। उन्होंने बताया कि कोरोना के कारण हुए लॉकडाउन में सरकारी कर्मचारी पूरे सेवाभाव से काम कर रहे हैं। उनका मनोबल बढ़ाने के बजाय भत्ते खत्म करने का कदम हताश करने वाला है।
नया पेज पुराने