📢17 पिछड़ी जातियों कहार, कश्यप, केवट, मल्लाह, निषाद, कुम्हार, प्रजापति, धीवर, बिन्द, भर, राजभर, धीमर, बाथम, तुरहा, गोड़िया, मांझी तथा मछुआ को अनुसूचित जाति के रूप में परिभाषित करने के सम्बन्ध में।

👉समाज कल्याण विभाग / समाज कल्याण अनुभाग 3

👉शासनादेश देखने के लिए क्लिक करें

नया पेज पुराने