समान कार्य को दिया जाए समान वेतन, केंद्रीय कर्मचारियों की भांति वेतन व भत्ते दिए जाए - UP Government Shasanadesh (GO) : शासनादेश उत्तरप्रदेश,Government Order, UPGO
  • Latest Government Order

    रविवार, 17 जुलाई 2016

    समान कार्य को दिया जाए समान वेतन, केंद्रीय कर्मचारियों की भांति वेतन व भत्ते दिए जाए

    पीलीभीत : वी बैंकर्स ग्रामीण बैंक एसोसिएशन के राष्ट्रीय अध्यक्ष मनीष कुमार ने कहा कि ग्रामीण बैंक के अफसरों व कर्मचारियों के साथ सौतेला व्यवहार किया जा रहा है। वर्तमान में 80 हजार वेतन मिल रहा है।

    रिटायरमेंट के बाद तीन हजार से कम पेंशन मिलेगी। ऐसे में ग्रामीण बैंक कर्मियों को केंद्र सरकार की भांति वेतन व सुविधाएं दी जानी चाहिए।

    शहर के एक होटल में वी बैंकर्स ग्रामीण बैंक एसोसिएशन के जिलास्तरीय सम्मेलन का आयोजन किया गया। मुख्य अतिथि मनीष ने कहा कि हमारा श्रमिक आंदोलन कम्युनिस्ट,भाजपा, कांग्रेस से संबद्ध ट्रेड यूनियनों में बंटा हुआ है। वी बैंकर्स चाहता है कि किसी भी पार्टी या उसके एजेंडे से उसका कोई संबंध न हो।

    राष्ट्रीय उपाध्यक्ष घनश्याम वर्मा ने कहा कि परंपरागत विरोध के अस्त्रों के स्थान पर उन्नत तकनीक का सहारा लेकर बैंक कर्मियों के हितों और अधिकारों से संबंधित मुद्दो पर डाटाबेस तैयार करें। एसोसिएशन के संरक्षक कमलेश्वर चतुर्वेदी ने कहा कि एसोसिएशन को ट्रेड यूनियन के रूप में काम नहीं करना है।

    कर्मचारियों की समस्याओं को हल कराने की दिशा में काम करना है। सभी बैंकों के कर्मचारियों को केंद्रीय कर्मचारियों के समान वेतन, भत्ते, सुविधाएं व पेंशन मिले। केंद्रीय संयोजक संतोष तिवारी ने कहा कि ग्रामीण बैंकों में कार्यरत सभी संगठनों की निष्क्रियता की वजह से वी बैंकर्स एसोसिएशन के गठन की जरूरत महसूस हुई। वी बैंकर्स ने किसी भी पार्टी या विचारधारा से संबद्ध न रखने का निर्णय लिया है।

    इस एसोसिएशन का गठन 14 अप्रैल 2016 को किया गया था। जल्द ही राष्ट्रीय अधिवेशन आयोजित किया जाएगा। संचालन आशीष यादव व दीपक सरकार ने किया।

    इस मौके पर बीके सिंह, आरएस सक्सेना, अनुराग अवस्थी, सुधीर मेहता, वीरेंद्र गंगवार, ताराचंद्र चौधरी, हेमंत शर्मा, विनय शर्मा, आशीष मिश्र, कौसर हुसैन, आशुतोष तिवारी, आईवी विजलवाण, वीरपाल सिंह, प्रमोद बंसल, शिशिर चौहान, प्रवेश पांडेय, सत्येंद्र मिश्र आदि मौजूद रहे।वी बैंकर्स एसोसिएशन के सम्मेलन में मंचासीन पदाधिकारी ।